हल्दी के धार्मिक,आयुर्वेदिक उपयोग और लाभ | Application and Benefits of Haldi
Published on: May 26, 2023
Uses of Haldi_Hindusanskriti

हल्दी के धार्मिक,आयुर्वेदिक उपयोग और लाभ

हल्दी क्या है?

हल्दी (Turmeric) एक शुभफलदायी कायाकल्प घटक है जो सदियों से  हमारे देश में उपयोग में लाया जाता है| हमारे प्राचीन ऋषि मुनियो द्वारा को ज्ञात था कि हल्दी में ऐसे तत्व होते है जो बहुत ही गुणकारी है| एशियाई देशो में हल्दी को भोजन के रूप में सहज स्वीकारा जाता है| हमारी भारतीय संस्कृति में हल्दी को धार्मिक पूजन सामग्री में और पारम्परिक भोजन बनाने में मसाले के रूप में उपयोग में लिया जाता है|

हल्दी का वानस्पतिक नाम कर्कुमा लोंगा है यह भूमिगत प्रकंद है| हल्दी के पौधे से प्राप्त अदरक के समान गाठो के रूप में ज़मीन से प्राप्त होती है| यह पीले रंग की सर्वरोग हरने वाली दिव्य औषधि है| 

भारत में हल्दी को आम हल्दी, भारतीय केसर, तमिल में मंजल, अरबी भाषा कुमकुम, संस्कृत में हरिद्रा और पासुपु, होलूद, कलाज, हलाद आदि अनेक नाम से जाना जाता है|

हल्दी का 75% उत्पादन हमारे देश भारत में होता है|

इसकी खेती तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश में अधिक होती है| भारत में हल्दी का उपयोग भी अन्य देशो की अपेक्षा अधिक होता है| 

 हल्दी एक प्राकृतिक बहुमूल्य मसाला है इसके गुणों को देखते हुए इसे भारतीय रसोई घर में मसालों का राजा कहा जाता है| हल्दी में कर्कुमिन तत्व पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक है| 

Also Read : सूर्यास्त पूर्व भोजन क्यों करना चाहिए?

Haldi

हल्दी के उपयोग क्या है?

हल्दी का धार्मिक उपयोग

हल्दी शुभ और मंगलता का प्रतीक है| यह सौभाग्यदायी, उर्वरता, समृद्धि प्रदान करती है| बिना हल्दी के पूजा, पाठ, यज्ञ, हवन, धार्मिक अनुष्ठान संपन्न नहीं होते| हल्दी से कुमकुम भी बनाया जाता है| हिन्दूओ में विवाह संस्कार के समय हल्दी रस्म शुभ मानी जाती है| विवाह के सारे मांगलिक कार्य हल्दी लगाने से प्रारम्भ होते है| यह ऐसी जड़ी-बूटी है जिसका उपयोग मसाले के साथ-साथ धार्मिक कार्यो में भी किया जाता है|

हल्दी के ज्योतिष उपाय

हल्दी के द्वारा ग्रह दोष भी दूर करने के उपाय किये जाते है| पीली हल्दी अपने चमत्कारी गुणों से नकारात्मकता दूर करती है इसके सात्विक प्रयोग से जीवन की अनेक कठिनाइयों के समाधान भी किये जाते है| 

आयुर्वेद में हल्दी के उपाय –

हल्दी की तासीर गर्म होती है| हल्दी की गांठो को सुखाकर पीसकर चूर्ण ( powder ) के रूप में काम में लाया जाता है| हल्दी में ऐसे गुण पाए जाते है जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है|  घरेलु उपचार में भी हल्दी का बहुत उपयोग किया जाता है| 

आयुर्वेद में अनेक औषधियों में हल्दी का प्रयोग किया जाता है| हमारे शरीर के वात, पित्त और कफ तीनो के दोषो को दूर कर संतुलित रखने में हल्दी एक रामबाण औषधि मानी जाती है| 

पाक कला में हल्दी के उपयोग –

पाक कला में हल्दी के पीला रंग और स्वाद के कारण यह सहज ही हमारे भोजन का मुख्य मसाला माना जाता है| भारतीय पारम्परिक भोजन की कल्पना हल्दी के बिना संभव नहीं है| कच्ची हल्दी का उपयोग अचार, सब्जी बनाने में भी किया जाता है| हल्दी का कर्कुमिन तत्व भोजन पचाने में सहायक होता है| 

भोजन में हल्दी से प्रयोग से भोजन का स्वाद और गुणवत्ता बढ़ जाती है| हल्दी के रंग से भोजन सामग्री मन को आकर्षित करती है| 

सौन्दर्य प्रसाधनों में हल्दी के उपयोग –

सौन्दर्य प्रसाधनों में हल्दी से बना पेस्ट त्वचा को प्राकृतिक चमक देता है| रंगने ( Dye ) के रूप में, कायाकल्प करने में हल्दी का प्रयोग पुराने समय से किया जा रहा है| सौन्दर्य प्रसाधन बनाने में हल्दी का प्रयोग किया जा रहा है| एंटीसेप्टिक गुण होने के कारण कील-मुहासे, दाग, धब्बे भी दूर होते है|  हल्दी का लेप लगाने से त्वचा साफ होती है|

Also Read : तांबा के बर्तन में रखा पानी पीने के फायदे 

Benefits of Haldi_Hindusanskriti

हल्दी से क्या लाभ होता है?

हल्दी के स्वास्थ्य संबंधी लाभ –

आधुनिक विज्ञान में हल्दी का महत्त्व अनेक शोधो द्वारा बताया गया है| विदेशो में भी हल्दी से स्वास्थ्य संबंधी अनेको शोध (research) किये गए है वे भी हल्दी के गुणों को देखते हुए उसका उपयोग करने लगे है| 

  • दूध में हल्दी मिलकर सेवन करने पर दूध का कैल्शियम और हल्दी का एंटी-बायोटिक दोनों गुणों का एक साथ लाभ प्राप्त होता है|
  • त्वचा संबंधी रोग जैसे खुजली, जलन, सूजन, घाव आदि शीघ्र ठीक करने के लिए हल्दी बहुत प्रभावकारी है| हल्दी के प्रयोग से त्वचा चमकदार और स्वस्थ बनती है| नेत्र संबंधी तथा दन्त रोगो में भी हल्दी के घरेलु उपयोग किये जाते है| 
  • घुटने का दर्द, गठिया, पाचन तंत्र के विकार,  लीवर, अल्सर, पेट में जलन दूर करने में हल्दी सहायक है| मोटापा घटने में भी हल्दी का उपयोग किया जाता है|

मोटापा घटने में भी हल्दी का उपयोग किया जाता है_Hindusanskriti

 

  • मानसिक रोगो जैसे अल्जाइमर रोग, दिमाग की सूजन, आदि में भी हल्दी प्रयोग लाभकारी सिद्ध हुआ है| तेज स्मृति (स्मरण शक्ति) बढ़ाने के लिए भी हल्दी एक दिव्य औषधि है|
  • संक्रमण संबंधी सर्दी-ज़ुखाम,  बुखार में भी हल्दी का उपयोग रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए किया जाता है| अस्थमा, दमा सांस संबंधी रोगो में भी हल्दी का सेवन किया जाता है|
  • कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से लड़ने के लिए भी हल्दी उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सको द्वारा किया जाता है| हानिकारक विषाणु को दूर करके शरीर को स्वस्थ बनाने में मदद करता है|
  • मधुमेह नियंत्रित करने के लिए और रक्त शुद्धि करने के लिए हल्दी उपयोगी है| 

Also  Read : सात्विक भोजन एक वरदान