क्या उत्तर दिशा में सिर करके सोना चाहिए? | Is it advisable to sleep facing North?
Published on: April 29, 2023

किस दिशा में सिर करके सोना चाहिए ? यह एक महत्वपूर्ण प्रश्न है क्योंकि निंद्रा ( नींद ) हमारे शरीर को ऊर्जा प्रदान करने का सशक्त माध्यम है | गहरी नींद ( Sound sleep ) पर्याप्त मात्रा में लेना शरीर के लिए अति आवश्यक है | शरीर को सक्रिय ऊर्जावान बनाने में नींद की बहुत बड़ी भूमिका है | सही दिशा में उचित तरीके से सोना शरीर के लिए लाभदायी होता है | हमारे अनेक हिन्दू शास्त्रों व ग्रंथो में सोना ( शयन निंद्रा ) के बारे में अनेक नियम बताये गए है धार्मिक मान्यताए व वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी उन नियमों का पालन करना उचित है | 

Hindusanskriti_Sleeping

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दक्षिण दिशा में सिर करके सोना चाहिए –

उत्तर दिशा में सिर करके सोने पर पैर दक्षिण दिशा में होते है और दक्षिण दिशा में पैर रखकर सोना अशुभ माना जाता है | उत्तर दिशा में सिर होने पर चुंबकीय प्रभाव हमारे शरीर पर नकारात्मक प्रभाव डालता है | जिससे ह्रदय, मस्तिष्क, रक्तचाप, सिरदर्द, और अनिंद्रा जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है | 

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से दक्षिण दिशा में सिर करके सोना चाहिए

मानव शरीर एवं पृथ्वी दोनों के अपने-अपने चुम्बकीय क्षेत्र होते है | पृथ्वी के चुम्बकीय क्षेत्र उत्तर और दक्षिण ध्रुव में केंद्रित होते है | हमारे रक्त में लोह तत्व कि मात्रा अधिक होने से उत्तर दिशा का चुम्बकीय तत्व आकर्षित होता है जिससे मस्तिष्क संबंधित समस्याए एवं रक्त संचार बाधित होता है |

वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा सोने के लिए अच्छी नहीं है | पृथ्वी कि चुम्बकीय ऊर्जा का नकारात्मक प्रभाव ह्रदय पर भी असर डालता है |

आयुर्वेद के अनुसार उत्तर दिशा में सिर करके सोने से रक्त परिसंचरण प्रभावित होने, तनाव और मन की अशांति जैसी समस्याएं हो सकती है।

Sleep_ HinduSanskriti

Also Read : सूर्यास्त पूर्व भोजन क्यों करना चाहिए? 

उत्तर दिशा की ओर सिर करके सोने पर चुम्बकीय धारा पैरों से प्रवेश करके सिर तक पहुंचती है, जिसकी वजह से मानसिक तनाव बढ़ता है |

ऐसी मान्यता है कि पूर्व दिशा में सूर्य ऊर्जा का प्रभाव होने से पूर्व दिशा में पैर करके भी नहीं सोना चाहिए | 

अच्छी रात की नींद का आनंद लेने तथा उत्कृष्ट स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए, सोने की सही दिशा सुनिश्चित करनी चाहिए | गहरी नींद पर्याप्त मात्रा में लेने के लिए सिर दक्षिण दिशा की ओर होने से आपका शरीर स्वाभाविक रूप से  प्राकृतिक शक्तियों से जुड़ा रहता है। 

Sleeping facing south_Hindu Sanskriti

पूर्व व दक्षिण दिशाओ में सिर रखकर सोना सबसे आदर्श स्थिति मानी जाती है |

यदि हम निंद्रा ( नींद, शयन ) संबंधी नियमो का पालन सुचारु रूप से करेंगे तो हमारा तन और मन स्वस्थ रहेगा, जीवन खुशहाल बनेगा | 

स्वस्थ शरीर के लिए आवश्यक है भरपूर नींद |

Also Read : बड़ो के चरण स्पर्श क्यों करना चाहिए?